मेमोरी लॉस में फायदेमंद हैं काली मिर्च। kaali mirch ke fayde aur side effects

kaali mirch ke fayde aur side effects

 काली मिर्च जिसे गोलमिर्च के नाम से भी जाना जाता हैं भारतीय मसालों का एक अभिन्न अंग हैं।यह गरम मसाले में मुख्य रूप से प्रयोग किया जाता है।जैसा कि नाम से ही जाहिर है kali mirch ki tasir गरम होती है और इसे अलग अलग जगहों में अलग अलग नाम से भी जाना जाता है।इसमे पिपेरिन नाम का पदार्थ होता है जिसका स्वाद तीखा होता है,यहीं वजह हैं कि काली मिर्च तीखी होती है।

इसमे बहुत से खनिज और विटामिन होते हैं।जिनके वजह से kali mirch ka prayog न सिर्फ मसाले के तौर पर बल्कि औषधि के रूप में भी प्रयोग किया जाता है।
यह एक फल होता है जो कि सूखने पर इस्तेमाल किया जाता हैं जो कि लगभग 5mm का होता हैं।इंडिया में मुख्य रूप से इसकी खेती केरल में होती है।पूरे विश्व मे इसका सबसे बड़ा उत्पादक देश वियतनाम हैं।जो कि लगभग पूरी दुनिया में 34% इसका उत्पादन करता है।

काली मिर्च खाने के फायदे black pepper benefits in hindi


जैसे कि हम जानते हैं कि काली मिर्च एक औषधि भी है इसके सेवन से हमें कई प्रकार के लाभ भी होते है जो इस प्रकार है:-
1.तनाव मुक्त होने में :- आजकल लोगों की दिनचर्या इस प्रकार की हो गई है कि बहुत से लोग जिसमें न सिर्फ बड़े बुजुर्ग बल्कि बच्चें तक भी शामिल है जो मानसिक तनाव की स्थिति का सामना कर रहे हैं।जिसका मुख्य कारण यह है कि हम काम में इतने व्यस्त हो चुके हैं कि अपनी समस्याओं को किसी से भी साझा नही कर पाते हैं और यही छोटी छोटी समस्याएं आगे चलकर डिप्रेशन का रूप धारण कर लेती है जो कि एक गंभीर बीमारी है। काली मिर्च हमें डिप्रेशन से उबारने में सहायता करती है।

2.कैंसर से बचाव में मददगार हो सकती हैं:– प्राचीन काल से यह मान्यता चली आ रही है कि काली मिर्च के सेवन से कैंसर से बचा जा सकता है।ऐसा प्रतीत होता है कि यह सत्य है।काली मिर्च में एन्टी ट्यूमर तत्व पाए जाते है जो कि रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाते हैं।एक शोध में यह पता चला है कि हल्दी और काली मिर्च का मिश्रण स्तन कैंसर से लड़ने के लिए सहायक होते है।हल्दी का एक सक्रिय घटक करक्यूमिन और काली मिर्च दोनों ही साथ मे कैंसर के मैलिग्नेंट सेल को खत्म करने की क्षमता रखते है।

3.लिवर को सुरक्षित रखता हैं:-आयुर्वेद में काली मिर्च के बहुत सारे फायदे बताये गए हैं, जिसमे से एक फायदा यह भी है कि यह हमारे लिवर को ऑक्सिडेटिव तत्वों से पहुचने वाली हानि से बचाता है और साथ ही एंटीऑक्सिडेंट ग्लुटाथायन के लेवल में वृद्धि करता है जो कि लिवर को डैमेज होने से बचाता है।

4.एन्टी ओक्सिडेंट और एंटीबैक्टीरियल फायदा :- काली मिर्च में पाया जाने वाला सक्रिय घटक पिपेरिन शरीर मे होने वाले क्रोनिक जलन से बचाव में सहायक होता है यह इसके एन्टी बैक्टिरियल गुण के कारण ही सम्भव होता है।

5. त्वचा के दाग धब्बे दूर करना–  काली मिर्ची का प्रयोग त्वचा में होने वाले दाग धब्बों को दूर करने के लिए भी किया जाता है। ये मृत त्वचा को हटाता है और त्वचा में ब्लड सर्कुलेशन को बढ़ाता है। इसके लिए काली मिर्च के पाउडर की एक चुटकी को फेस मास्क में मिलाकर प्रयोग किया जाता हैं।

6.मस्तिष्क से संबंधित बीमारियों के लिए- काली मिर्च में पाए जाने वाले तत्वों की वजह से ये स्मृति को होने वाली क्षति को भी दूर करने में सहायक होता है। यह अल्ज़ाइमर रोग में भी कारगर सिद्ध होता है।

7.वज़न कम करने में सहायक – काली मिर्च का सेवन करने से शरीर में बढ़ने वाली चर्बी कम होती है।जो कि काली मिर्च के फायदे को और ज्यादा बढ़ा देती है।

8. गले की ख़राश – काली मिर्च में रोग प्रतिरोधक क्षमता होती है, जिसकी वजह से  सर्दी, ज़ुकाम और गले की ख़राश में इसका सेवन करने से आराम होता है। इसमें पाये जाने वाले एन्टी ऑक्सीडेंट के कारण जलन और सूजन में फायदा पहुँचता है।

9.सिगरेट की तलब में कमी:- काली मिर्च को सूंघने से सिगरेट पीने की लालसा में कमी आती है। जिन लोगों को लंबे समय से सिगरेट पीने की आदत है, वो अगर काली मिर्च को इस्तेमाल करेंतो, सिगरेट पीने का समयांतराल बढ़ता है।तो आप देख सकते है कि kali mirch ke fayde अनेक है।

काली मिर्च के नुकसान kali mirch ke nuksan


काली मिर्च खाने के जहां अनेकानेक फ़ायदे हैं, वही कुछ नुकसान भी हैं। यह सही मात्रा में लिया जाए, तो सुरक्षित है, ज़्यादा मात्रा किसी भी चीज की नुकसान ही करती है। अब आप सोच रहे होंगे कि काली मिर्च खाने से क्या नुकसान होता है? तो इसका जवाब यह है कि कुछ लोगों को काली मिर्च से एलर्जी हो सकती है। इसे जैसे ही हम मुँह में डालते हैं, यह जलन पैदा करता है।

यह भी पढ़ें – चाय या कॉफ़ी ?इनमें क्या नही पीना चाहिए ।
अगर यह आँखों में चला गया, तो आँखों में जलन होती है।
बघार में काली मिर्च का प्रयोग करने से  साँस लेते समय अगर नाक में गया, तो इस धुयें की वजह से खांसी की समस्या हो सकती है।
काली मिर्च की बहुत ज़्यादा मात्रा एक साथ मुह में जाना, सही नही है, यह मौत का भी कारण बन सकती है।
ज़्यादा मात्रा में काली मिर्च लेने से ब्लड क्लोटिंग और ब्लीडिंग की भी समस्या हो सकती है।
इसकी अधिक मात्रा हमारे शरीर में ब्लड शुगर का लेवल बढ़ाती है, जो शुगर पेशेंट के लिए हानिकारक है।
जिन लोगों की सर्जरी होने वाली है, वह सर्जरी से २ हफ्ते पहले काली मिर्च ज़्यादा मात्रा न लें।

वज़न कम करने में सहायक black pepper benefits weight loss in hindi
काली मिर्च में पाया जाने वाला पिपेरिन नामक तत्व शरीर में  अच्छे कोलेस्ट्रोल को एकत्र करने में मदद करता है। यह चयापचय की प्रक्रिया को बढ़ाने का काम करता है। हमारे शरीर में फैट को इकठ्ठा होने से रोकता है , पाचन क्रिया को सही रखता है और एक्सट्रा कैलोरी को तेज़ी से जलाता है।

काली मिर्च का सेवन कैसे करें

• काली मिर्च को अगर आप अपनी डाइट में शामिल करते हैं, तो इससे किसी प्रकार का नुकसान नही है, बशर्ते इसे सही तरीके से लिया जाये। इसे रोजाना 1-2 चम्मच लिया जा सकता है, अगर इससे ज़्यादा लिया जाये तो इसका दुष्परिणाम सामने आ सकता है। आइये जानते हैं, वज़न कम करने के लिए किस प्रकार से इसका सेवन किया जाये:-
• अगर आपको काली मिर्च के तीखेपन से कोई समस्या नहीं है, तो आप इसे रोज़ 2-3 चबा के खा सकते हैं। इसे हर सुबह ख़ाली पेट खाया जाता है।subah kali mirch khane ke fayde आपको आश्चर्यजनक दिख सकते है।
• काली मिर्च को शहद के साथ लिया जाये तो यह शरीर के एक्सट्रा फैट को खत्म करता है। एक पैन में 1 कप पानी गर्म करें, उसमें 1 चम्मच शहद और 1/2 चम्मच पिसी हुई काली मिर्च को अच्छे से मिला लें और इसे ठंडा होने पर पियें।
• चाय आमतौर पर सबको पसंद होती है, अगर हम इसे थोड़ा बदलाव करके हेल्थी बना लें तो और बेहतर है। काली मिर्च की चाय बनाना आसान भी है और स्वास्थ्य के लिए अच्छी भी। इसके लिए एक पैन में 1 कप पानी डालें अब इसमें 1 इंच अदरक को कुचल के डाले, अब इसे 5 मिनिट उबाल कर एक कप में निकाल लें। अब ग्रीन टी के एक बैग को कुछ मिनिट के लिए इसमें भीगो दे और फिर 1/2 चम्मच काली मिर्च का पाउडर इसमें डाल के अच्छे से मिक्स करके इसे पी लें।
• काली मिर्च को सब्जी और जूस के साथ भी लिया जा सकता है इसके लिए 1/2 चम्मच काली मिर्च पाउडर को जूस में डाल के अच्छे से मिक्स करके पियें।
• यदि आप अपना वज़न कुछ किलो कम करना चाहते हैं, तो काली मिर्च का तेल भी प्रयोग कर सकते हैं। किसी मेडिकल से  प्योर काली मिर्च का तेल ख़रीद लें और 1बूँद तेल को 1 गिलास पानी में डाल के अच्छी तरह मिक्स करके इसे नाश्ते से पहले पी लें।यह भी पढ़ें :- डायबिटीज के इन लक्षणों को नजरअंदाज न करें।

kali mirch with milk benefits in hindi:-काली मिर्च को हल्दी वाले दूध के साथ मिलाकर पीने से मेमोरी लॉस जैसी गंभीर समस्या का इलाज किया जा सकता है।

इस प्रकार काली मिर्च के फ़ायदे, नुकसान और सेवन विधि इत्यादि जानने के बाद हम यह समझ सकते हैं कि, इसका अगर सही तरीके से प्रयोग किया जाये तो, बहुत सी बीमारियों से बचा जा सकता है और कई बीमारियों को होने से पहले या फिर शुरुआती दौर में ही कंट्रोल किया जा सकता है। लेकिन अगर आपको इसके इस्तेमाल से किसी भी प्रकार की समस्या सामने आये तो तुरंत इसे लेना बंद कर दें, क्योंकि यह ज़रूरी नही है कि हर किसी को हर औषधि सही असर करे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button