Mulethi side effect in hindi मुलेठी के फायदे

Mulethi side effect in hindi

Mulethi benefits and side effects

मुलेठी mulethi एक शक्तिशाली जड़ी है।जिसमें की प्राकृतिक रूप से कई बीमारियों के इलाज की क्षमता होती हैं।जैसे कि सर्दी, जुकाम, गले में खराश,कब्ज़, पेट सम्बंधित बीमारियाँ और इसमे रयोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने की भी अद्भुत शक्ति होती है।आमतौर पर इसे mulethi powder के रूप में इस्तेमाल किया जाता हैं।मुलेठी वेस्टर्न एशिया और साउथ यूरोप में मुख्य रूप से पाया जाता है। मुलेठी के पौधे के जड़ को औषधि के रूप मे प्रयोग किया जाता है। इसके फूल गुलाबी एवं जमुनी रंग के होते है।मुलेठी की खेती ऊँचे स्थानों पर ही होती है।इसका प्रयोग पान में भी किया जाता है।

मुलेठी के फायदे:-

1.इसमें प्राकृतिक रूप से मिठास पाई जाती है।
2.मुलेठी में शरीर मे होने वाले प्रदाह को कम करने का गुण पाया जाता है। किसी व्यक्ति को पीलिया रोग की समस्या होने पर इसका प्रयोग किया जाता है। जो की हमारे लिवर के लिए लाभदायक होता है।
3.mulethi benefits for skin :- यह त्वचा के लिए भी अच्छा रहता है।यह स्किन में होने वाले इंफेक्शन,सूर्य की किरणों से होने वाले हानि,त्वचा में कसावट लाना इत्यादि के लिए प्रयोग किया जाता है।इसलिये स्किन से सम्बंधित टॉनिक इत्यादि में आमतौर पर मुलेठी का प्रयोग होता है।
4.यह शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाता है जिससे कि विभिन्न प्रकार के एलर्जी और इंफेक्शन से लड़ने के लिए हमारा शरीर सक्षम हो पाता है।
5.मुलेठी का प्रयोग शरीर को शक्तिशाली बनाने के लिए भी किया जाता है।यह वजन बढ़ाने के लिए भी सहायक होता है।यदि आप किसी लम्बी बीमारी से उठे हैं तो मुलेठी का प्रयोग करके अपने शरीर को पुनः रिकवर कर सकते हैं।
6.यह पेट से सम्बंधित विभिन्न प्रकार के बीमारियों जैसे-पेट में जलन, जी मचलना, अल्सर जैसे गंभीर बीमारी में भी काम मे लिया जाता है।
7.इसका प्रयोग आँख, बाल इत्यादि से सम्बंधित विभिन्न प्रकार के बीमारियों के लिए भी किया जाता है।
8.यह मनुष्य के मस्तिष्क से सम्बंधित समस्याओं में भी विशेष रूप से प्रभावशाली साबित होता है।यह दिमाग की वृद्धि के लिए उपयोग में लाया जाता है।यह भूलने की बीमारी को भी दूर करने में मदद करता है।
9.यह हड्डियों की मजबूती के लिए भी काम आता है।यह टूटी हड्डियों को जोड़ने, आंतरिक और बाह्य जख्म आदि को भी भरने में सहायक होता है।
10.मुलेठी गले के लिए भी बहुत अच्छी औषधि है।सर्दी,जुकाम, अस्थमा,खांसी में मुलेठी का उपयोग इत्यादि में भी किया जाता हैं।
11.मूत्राशय सम्बंधित बीमारियों के इलाज में भी मुलेठी का प्रयोग किया जाता है।
12.यह लैंगिक कमजोरी की पहचान कर यौन इच्छा शक्ति को प्रबल करता है।
13.यह हमारे शरीर में ब्लड शुगर के लेवल को नियंत्रित करता है।इंसुलिन के स्तर को बढ़ाता है जिसके वजह से शुगर में मुलेठी लाभकारी होता हैं।
14.यह शरीर के हार्मोनल बैलेंस को बनाये रखता है।मासिक धर्म में होने वाली पीड़ा में आराम पहुंचाता है।मूड स्विंग,डिप्रेशन, अनिद्रा,इत्यादि में भी लाभकारी होता है।
15.यह एनीमिया में भी बहुत फायदेमंद होता है।शहद के साथ मुलेठी लेने पर यह तेजी से असर करता है।

How to make Mulethi powder मुलेठी पाउडर कैसे बनाये?

Mulethi powder :-
मुलेठी की जड़ को पीसकर इसका पाउडर तैयार किया जाता है जो कि मुलेठी चूर्ण के नाम से उपलब्ध रहता है। आप चाहे तो मुलेठी की जगह मुलेठी पाउडर या मुलेठी चूर्ण को भी इस्तेमाल कर सकते हैं। यह बाजार में आसानी से उपलब्ध हो जाता है।

आप चाहे तो मुलेठी पाउडर को घर पर ही बनाया जा सकता है,चूंकि मार्केट में मिलने वाला मुलेठी चूर्ण हो सकता है कि महंगा और नकली भी हो या जुसमे किसी किस्म की मिलावट की गई हो तो यह हम जिस काम के लिए उपयोग में ला रहे हैं वह फायदा हमे नही मिल पाएगा ।इसलिए घर पर भी मुलेठी चूर्ण तैयार किया जा सकता है जो की पूर्ण रूप से शुद्ध और स्वच्छ होगा।
आइये जानते है कि किस प्रकार से हम घर पर मुलेठी चूर्ण बना सकते हैं:-
जितनी आवश्यकता हो उतनी ताजी मुलेठी की जड़ लेकर उन्हें अच्छी तरह से धो लें ताकि उसमे लगी धूल मिट्टी साफ हो जाए।अब इन्हें छोटे छोटे टुकड़े में तोड़ ले और इन्हें सीधे धूप में तब तक रख दे जब तक ये पूर्ण रूप से सूख न जाये।ध्यान रहें कि इसमे थोड़ी सी भी नमी बाकी न रहें।अब इसे ग्राइंडर में पीस ले और उसके बाद इस पाउडर को पुनः धूप में रख दे ताकि इसकी बची हुई नमी भी पूर्ण रूप से खत्म हो जाए।अब इस सूखे हुए पाउडर को एक एयर टाइट डिब्बे में रख ले और आवश्यकता अनुसार उपयोग करते रहें।

Mulethi ke side effect मुलेठी के नुकसान :-

मुलेठी के विभिन्न प्रकार के फायदे हैं लेकिन इसके साथ ही इसके कुछ नुकसानदायक पहलू भी है जिसकी जानकारी आपको होनी जरूरी है।
जिन्हें दलहनी पदार्थ और मटर से एलर्जी हो उनके लिए मुलेठी का उपयोग नुकसानदेह साबित हो सकता है और बेहतर होगा कि ऐसे लोग मुलेठी या मुलेठी के चूर्ण का सेवन करने से बचे।कभी कभी मुलेठी की ज्यादा मात्रा हमारे आँखों की रौशनी को धुंधली भी कर देती है और कुछ दुर्लभ स्थिति में यह कुछ समय के लिए आखों की रौशनी को पूर्ण रूप से बाधित भी कर सकती है।ईसलिये इस्तेमाल करते समय इस बात का ध्यान रखा जाए कि आप सही मात्रा एवं संतुलित मात्रा में ही मुलेठी का प्रयोग करें।जिससे कि इसके दुष्प्रभाव से आप सुरक्षित रह सकें।

इस प्रकार हमने इस पोस्ट में आपको मुलेठी के आयुर्वेदिक गुण और Mulethi से जुड़ी हर बात को बताने का प्रयास किया।किसी भी तरह की अन्य परेसानी होने पर तत्काल अपने चिकित्सक से सम्पर्क करें।mulethi powder benefits से जुड़ी आपकी कोई सवाल हो तो आप हमें नीचे कमेंट बॉक्स पर लिख सकते है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button